Drishti Ias : upsc prelims test series 2024 Part 7 free Download

Share With Friends

यह पोस्ट उन विद्यार्थियों के लिए है जो UPSC की तैयारी कर रहे हैं उनके लिए हम Drishti Ias : upsc prelims test series 2024 Part 7 free Download उपलब्ध करवा रहे हैं अगर आप Upsc परीक्षा 2024 या 2025 में देना चाहते हैं तो इन IAS Test Series 2024 के माध्यम से प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी अवश्य कर ले

यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज में ऐसे प्रश्नों को शामिल किया गया है जो परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण हो हम आपको ऐसे ही अनेक सीरीज उपलब्ध कराएं जिन्हें आप हिंदी एवं अंग्रेजी दोनों भाषाओं में डाउनलोड करके प्रैक्टिस कर सकते हैं

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Drishti Ias : upsc prelims test series 2024 Part 7 free Download

प्रश्न. आर्द्रभूमि (संरक्षण और प्रबंधन) नियम 2017 के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

1. इन नियमों द्वारा केंद्रीय आर्द्रभूमि नियामक प्राधिकरण को राष्ट्रीय आर्द्रभूमि समिति से प्रतिस्थापित कर दिया गया है।

2. इन नियमों में “विवेकपूर्ण उपयोग के सिद्धांतों” की एक विस्तृत सूची प्रदान की गई है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा सही है ?

(b) केवल 2

(c) 1 और 2 दोनों

(d) न तो 1 और न ही 2

व्याख्या –

  • भारत में, आर्द्रभूमि (संरक्षण और प्रबंधन) नियम, 2017 के तहत आर्द्रभूमियों को विनियमित किया जाता है।
  • इन नियमों के वर्ष 2010 के संस्करण में केंद्रीय आर्द्रभूमि विनियामक प्राधिकरण का प्रावधान था, किंतु वर्ष 2017 में इन नियमों में बदलाव करते हुए इसे राज्य स्तरीय निकायों से प्रतिस्थापित कर दिया गया और एक राष्ट्रीय आर्द्रभूमि समिति की स्थापना की गई, जो एक सलाहकार की भूमिका में कार्य करती है। अतः कथन (1) सही है ।
  • आर्द्रभूमि प्राधिकरण द्वारा निर्धारित ‘विवेकपूर्ण उपयोग’ के सिद्धांत के अनुसार आर्द्रभूमियों के संरक्षण और प्रबंधन का प्रावधान किया गया है। आर्द्रभूमि (संरक्षण और प्रबंधन) नियम 2017 “विवेकपूर्ण उपयोग के सिद्धांतों” की एक विस्तृत सूची प्रदान नहीं करता। अतः कथन (2) सही नहीं है ।
  • इन सिद्धांतों को आमतौर पर आर्द्रभूमि के स्थायी प्रबंधन के लिये दिशानिर्देशों का एक समूह माना जाता है किंतु इन्हें इन नियमों में स्पष्ट रूप से सूचीबद्ध नहीं किया गया है।

प्रश्न. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

1. यह पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, 1986 के तहत गठित एक सांविधिक निकाय है।

2. यह राज्यीय बोर्डों की गतिविधियों को समन्वित करता है तथा उनके मध्य विवादों का समाधान करता है।

3. इसकी अध्यक्षता पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री करते हैं।

उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं ?

(b) केवल दो

(c) सभी तीन

(d) कोई भी नहीं

व्याख्या –

  • केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board— CPCB) एक सांविधिक निकाय है, इसका गठन सितंबर, 1974 में जल ( प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण ) अधिनियम, 1974 के तहत किया गया था।
  • इसके अतिरिक्त, वायु ( प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण ) अधिनियम, 1981 के तहत भी CPCB को शक्तियाँ और कार्य सौंपे गए हैं। अतः कथन (1) सही नहीं है।

राष्ट्रीय स्तर पर CPCB के कार्य :

  • जल और वायु प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण तथा वायु की गुणवत्ता में सुधार से संबंधित किसी भी विषय पर केंद्र सरकार को परामर्श देना।
  • जल और वायु प्रदूषण नियंत्रण तथा न्यूनीकरण के लिये एक राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम की योजना तैयार करना एवं उसका क्रियान्वयन करना।
  • राज्य बोर्ड की गतिविधियों को समन्वित करना और उनके मध्य विवादों का निपटान करना । अतः कथन ( 2 ) सही है।
  • राज्यीय बोर्डों को तकनीकी सहायता एवं मार्गदर्शन प्रदान करना साथ ही जल और वायु प्रदूषण की समस्याओं से संबंधित अन्वेषण तथा अनुसंधान करना एवं इनके निवारण, नियंत्रण या न्यूनीकरण के लिये कार्य करना व उन्हें प्रायोजित करना।

इसके अतिरिक्त, CPCB के अध्यक्ष की नियुक्ति भारत सरकार की मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति द्वारा की जाती है। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री इसके अध्यक्ष नहीं होते हैं। अतः कथन ( 3 ) सही नहीं है।

प्रश्न. मानव पशु संघर्ष को कम करने से संबंधित पुनर्वास ( RE- HAB) परियोजना के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये :

1. यह परियोजना खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) की एक पहल है।

2. इसका उद्देश्य मानव बस्तियों में हाथियों के हमलों को कम करने के लिये मधुमक्खियों के बक्सों की बाड़ लगाना है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा सही है ?

(a) केवल 1

(b) केवल 2

(d) न तो 1 और न ही 2

व्याख्या –

  • कर्नाटक में एक प्रायोगिक पुनर्वास (RE-HAB) परियोजना (मधुमक्खियों का उपयोग करके हाथियों के मानव पर होने वाले हमलों को कम करना) की शुरुआत की गई है, इस परियोजना के तहत मानव-हाथी संघर्ष को कम करने के लिये ऐसे क्षेत्रों में मधुमक्खियों के बक्सों की बाड़ लगाई जाती है, जहाँ से जंगली हाथी मानव बस्तियों और किसानों के खेतों की तरफ बढ़ते हैं। अतः कथन (2) सही है।
  • ये क्षेत्र नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान एवं बाघ आरक्षित क्षेत्र की परिधि पर स्थित हैं, जहाँ इनके बीच संघर्ष के मामले अधिक देखे जाते हैं।
  • इसका उद्देश्य मधुमक्खियों का उपयोग करके मानव बस्तियों में हाथियों के हमलों को विफल करने के लिये “मधुमक्खियों का बाड़” बनाना है।
  • मधुमक्खी बक्से हाथियों को कोई नुकसान पहुँचाए बिना उन्हें मानव बस्तियों में प्रवेश करने से रोकने में मदद करेंगे।
  • यह गड्ढों को खोदने अथवा बाड़ खड़ा करने जैसे कई अन्य उपायों की तुलना में बेहद लागत प्रभावी है। इस पहल से और किसानों की आय शहद उत्पादन और किसानों की आय में वृद्धि करने में भी मदद मिलेगी।
  • यह परियोजना खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) की एक पहल है। यह KVIC के राष्ट्रीय शहद मिशन का एक उप-मिशन है। अतः कथन (1) सही है।
Click & Download Pdf

अगर आपकी जिद है सरकारी नौकरी पाने की तो हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं टेलीग्राम चैनल को अभी जॉइन कर ले

Join Whatsapp GroupClick Here
Join TelegramClick Here

अंतिम शब्द

यूपीएससी की तैयारी करने वाले विद्यार्थी Drishti Ias : upsc prelims test series 2024 Part 7 free Download सीरीज में शामिल प्रश्नों को जरुर पढ़ ले प्रत्येक टेस्ट सीरीज में 100 प्रश्न दिए हुए हैं एवं उत्तर के साथ-साथ आपको प्रश्न की व्याख्या भी पढ़ने के लिए मिलती है

Drishti Ias : upsc prelims test series ( 4 ) 2024 free Download

Drishti Ias : upsc prelims test series ( 3 ) 2024 free Download

3 thoughts on “Drishti Ias : upsc prelims test series 2024 Part 7 free Download”

Leave a Comment