Share With Friends

हाल ही में अगर आपने एसएससी जीडी  परीक्षा 2023 के प्रश्नों को देखा है तो आपको पता ही होगा कि panchvarshiya yojana in hindi | पंचवर्षीय योजना से संबंधित एक से दो प्रश्न प्रत्येक शिफ्ट में पूछे जा रहे हैं ऐसे में हम आपके लिए SSC GD Questions Panchvarshiya Yojna पंचवर्षीय योजनाओं से संबंधित संपूर्ण जानकारी आज की इस पोस्ट में उपलब्ध करवा रही है

 1 to 12th पंचवर्षीय योजना से संबंधित आगामी परीक्षा में भी प्रश्न पूछे जाने की काफी ज्यादा संभावना है इसलिए अगर आपका एग्जाम अगली शिफ्ट में है तो एक बार  इन्हें अच्छे से जरूर पढ़ ले

panchvarshiya yojana in hindi | पंचवर्षीय योजना

Daily Current AffairsClick Here
Weekly Current Affairs QuizClick Here
Monthly Current Affairs ( PDF )Click Here

1.  प्रथम पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – 1 अप्रैल, 1951 – 31 मार्च, 1956 (1951-1956)
  • मॉडल – हेराल्ड डोमर मॉडल
  • लक्ष्य – कृषि तथा सिंचाई संसाधनों का विकास करना।
  • विकास दर – लक्षित – 2.1%
  • प्राप्त – 3.6%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – पंडित जवाहरलाल नेहरू

कार्यक्रम –

  • हीराकुण्ड, दामोदर घाटी तथा भाखड़ा नांगल नदी घाटी परियोजना।
  • सन् 1952 में सामुदायिक विकास कार्यक्रम प्रारंभ किया गया।
  • सन् 1953 में राष्ट्रीय प्रसार योजना शुरू की गई।
  • सन् 1953 में U.G.C. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की स्थापना की गई।
  • सन् 1955 में इंट्रीगल कोच फैक्ट्री स्थापित (चेन्नई)

2.  द्वितीय पंचवर्षीय योजना –

  • अवधि – सन् (1956 – 1961)
  • मॉडल – पी.सी. महालनोबिस
  • लक्ष्य – उद्योगों का विकास व तीव्र औद्योगिकीकरण
  • विकास दर – लक्ष्य – 4.5%
  • प्राप्त – 4.2%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – पंडित जवाहरलाल नेहरू

कार्यक्रम

  • तीन इस्पात संयंत्रों की स्थापना की गई।
  1. राउरकेला (ओडिशा) – जर्मनी की सहायता से।
  2. भिलाई (छत्तीसगढ़) – USSR सोवियत संघ की सहायता से।
  3. दुर्गापुर (पश्चिमी बंगाल) – ब्रिटेन की सहायता से।
  • अखिल भारतीय खादी व ग्रामोद्योग बोर्ड – सन् 1958 में स्थापना।
  • 2 अक्टूबर, 1959 को प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू द्वारा राजस्थान के नागौर जिले से पंचायती राज कार्यक्रम की शुरुआत की गई।
  • IIT कानपुर, IIT दिल्ली, मद्रास तथा बॉम्बे स्थापित किए गए।

3.  तृतीय पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – सन् 1961 – 66
  • मॉडल – सुखमय चक्रवर्ती का आगत निर्गत मॉडल
  • विकास दर – लक्षित – 5.6%
  • प्राप्त – 2.4%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – पंडित जवाहरलाल नेहरू

कार्यक्रम

  • बोकारो संयंत्र झारखण्ड में स्थापित किया गया।
  • सन् 1964 – यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया (U.T.I) की स्थापना की गई।
  • सन् 1964– भारतीय औद्योगिक विकास बैंक की स्थापना (I.D.B.I)
  • सन् 1965 – भारतीय खाद्य निगम (F.C.I.) की स्थापना
  • सन् 1965 – कृषि कीमत आयोग स्थापना।
  • सन् 1985 में कृषि कीमत आयोग को कृषि कीमत व लागत आयोग (CACP) बना दिया गया।
  • नोट :- यह योजना सर्वाधिक असफल रही।

योजना की असफलता के कारण

  1. 1962 का भारत चीन युद्ध
  2. 1965 का भारत पाक युद्ध
  3. 1965-66 का भयंकर अकाल

योजना विहीन काल (सन् 1966-69)- 3 वर्षीय योजनाएँ बनाई गई।

सन् 1962 में भारत का चीन के साथ तथा सन् 1965 में पाकिस्तान से युद्ध होने के कारण तीसरी पंचवर्षीय योजना असफल रही, जिसके कारण चौथी योजना के स्थान पर तीन एक वर्षीय योजनाएँ लागू की गई।

इसे योजना अवकाश भी कहा जाता है।

  • सन् 1966-69 तक वार्षिक योजनाएँ लागू की गई।
  • सन् 1966 में भारतीय मुद्रा का अवमूल्यन भी हुआ।
  • सन् 1966-67 में हरित क्रांति हुई जिसके प्रणेता भारत में M.S. स्वामीनाथन थे।
  • हरित क्रांति में प्रभावित फसलें – गेहूँ, चावल थी।

4.  चतुर्थ पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – सन् 1969 – 74
  • मॉडल – अशोक रुद्र व एल.एस. माने मॉडल (योजना आयोग के उपाध्यक्ष डी.आर.गॉडगिल द्वारा प्रारूप तैयार)
  • लक्ष्य – स्थिरता के साथ आर्थिक विकास व आत्मनिर्भरता को प्राप्त करना।
  • विकास दर – लक्षित 5.5%
  • प्राप्त – 3.3%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – इंदिरा  गाँधी

कार्यक्रम:-

  • जुलाई, 1969 में 14 बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया जिसकी पूँजी 50 करोड़ से ज्यादा थी।
  • सन् 1969 में MRTP Act लाया गया जिसके तहत पूँजी के केन्द्रीकरण को रोकना था।
  • बफर स्टॉक की स्थापना की गई अर्थात् भविष्य की आवश्यकता पूर्ति हेतु अनाज रखना।
  • सन् 1970 में ऑपरेशन फ्लड अर्थात् श्वेत क्रांति इसी योजना के तहत हुई, जिसके जनक वर्गीज कुरियन थे।
  • सन् 1973-74 में सूखा प्रवण-क्षेत्र कार्यक्रम अपनाया गया।
  • परिवार नियोजन कार्यक्रम भी इसी कार्यक्रम में अपनाया गया।

5.  पंचम पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – सन् 1974 – 78
  • मॉडल – डी.पी. धर
  • लक्ष्य – गरीबी उन्मूलन के साथ आत्मनिर्भरता को प्राप्त करना।
  • विकास दर – लक्ष्य 4.4%
  • प्राप्त – 4.8%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – इंदिरा गाँधी

कार्यक्रम:-

  • मई, 1974 में परमाणु परीक्षण किया गया।
  • सन् 1974 – न्यूनतम आवश्यकता कार्यक्रम चलाया गया।
  • सन् 1975 – बीस सूत्रीय कार्यक्रम की शुरुआत की गई।
  • सन् 1977 -78 – गरीबी निवारण हेतु अंत्योदय कार्यक्रम चलाया गया।
  • सन् 1977-78 काम के बदले अनाज योजना प्रारंभ की गई।
  • ‘गरीबी हटाओ का नारा’ दिया गया।
  • 25 जून, 1975 को आंतरिक विद्रोह के आधार पर राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा भी इसी योजना के तहत की गई।
  • आपात प्रतिस्थापन तथा निर्यात संवर्धन को बढ़ाया गया।

नोट:- अपने कार्यकाल से पूर्व समाप्त होने वाली एकमात्र योजना है।

अनवरत प्लान – Rolling plan

  • जनता पार्टी की सरकार आने से वर्ष 1978-79 और 1979-80 में अनवरत योजना (रोलिंग प्लान) बनाया गया।
  • अनवरत योजना के जनक – डॉ. गुर्नार मिडाल थे, भारत में लागू डी.टी. लकड़वाला ने की।
  • सन् 1979 – ग्रामीण युवा स्वरोजगार प्रशिक्षण कार्यक्रम (ट्रायसेम) की शुरुआत अनवरत योजना के दौरान ही की गई।
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – मोरारजी देसाई

6.  छठी पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – सन् 1980-85
  • मॉडल – आगत निर्गत मॉडल अर्थात् संरचनात्मक परिवर्तन व संवृद्धि उन्मुख मॉडल
  • लक्ष्य – रोजगार सृजन व गरीबी – उन्मूलन
  • विकास दर – लक्ष्य – 5.2%
  • प्राप्त  5.7%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – इंदिरा गाँधी

रोजगार हेतु निम्न कार्यक्रम /योजनाएँ चलाई गई-

  • IRDP – समन्वित ग्रामीण विकास कार्यक्रम
  • DWACRA – ग्रामीण महिला तथा बाल विकास
  • TRYSEM- ग्रामीण युवाओं हेतु स्वरोजगार प्रशिक्षण कार्यक्रम
  • NREP – राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम
  • RLEGP – ग्रामीण भूमिहीनों के लिए रोजगार गारन्टी कार्यक्रम

7. सातवीं पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – सन् 1985 – 90
  • मॉडल – आगत निर्गत मॉडल यह दीर्घकालीन विकास व उदारीकरण मॉडल
  • लक्ष्य – आधुनिकीकरण के साथ सामाजिक न्याय
  • विकास दर – लक्षित – 5%
  • प्राप्त 6.1%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – राजीव गाँधी

योजना विहीन कार्य 1990-90

  • देश में आर्थिक सन् अस्थिरता, प्रतिकूल भुगतान संतुलन के कारण 8 वीं पंचवर्षीय योजना को लागू नहीं किया जा सका अत: वर्ष 1990-92 तक के काल को योजना विहिन काल कहा गया।
  • जुलाई, 1991 में आर्थिक सुधार लागू किए गए। जिसे राव-सिंह सुधार भी कहते हैं, जिसके तहत (LPG) उदारीकरण, निजीकरण, वैश्ववीकरण की नीति अपनाई गई।
  • सन् 1991 में ही भारतीय मुद्रा का तीसरी बार अवमूल्यन किया गया।

8. आठवीं पंचवर्षीय योजना

  • अवधि        –          1992-1997
  • मॉडल        –          जॉन डब्ल्यू मिलर मॉडल
  • लक्ष्य         –          मानव संसाधनों का विकास करना।
  • विकास दर –          लक्षित – 5.6%
  • प्राप्त         –          6.8%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – पी.वी. नरसिम्हा राव

9.  नौवीं पंचवर्षीय योजना-

  • अवधि सन् 1997 – 2002
  • मॉडल – आगत निर्गत मॉडल
  • लक्ष्य – सामाजिक न्याय व क्षमता के साथ आर्थिक संवृद्धि।
  • विकास दर – लक्षित – 6.5%
  • प्राप्त – 5.4%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – अटल बिहारी वाजपेयी

10. दसवीं पंचवर्षीय योजना-

  • अवधि – सन् 2002-2007
  • मॉडल – व्यापक आगत-निर्गत मॉडल
  • लक्ष्य – सामाजिक न्याय व क्षमता के साथ आर्थिक विकास
  • विकास दर – लक्षित 8%
  • प्राप्त – 7.6%
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – अटल बिहारी वाजपेयी व मनमोहन सिंह

11.   ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – 2007 – 12
  • लक्ष्य – तीव्र व समावेशी निवास
  • विकास दर – योजना में 9% की विकास दर का लक्ष्य रखा था जिसे घटाकर 8.1% कर दिया गया। प्राप्त दर 7.9% रही।
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – मनमोहन सिंह

12. बारहवीं पंचवर्षीय योजना

  • अवधि – सन् 2012 – 17
  • लक्ष्य – तीव्र, सतत व ज्यादा समावेशी विकास
  • विकास दर – विकास दर का लक्ष्य 9% रखा, बाद में घटाकर 8.2% की गई पुन: घटाकर 8% की गई।
  • प्राप्त- 6.7%
  • नोट:- इस योजना में लक्ष्य दर में दो बार कमी की गई
  • नेतृत्व प्रधानमंत्री – मनमोहन सिंह  (सन् 2014 तक)

उद्देश्य –

  • तीव्र, सतत और समावेशी विकास सतत विकास से तात्पर्य – जल, जंगल तथा जमीन का न्यायपूर्ण वितरण।
  • सर्वाधिक बजट इस पंचवर्षीय योजना में ऊर्जा पर खर्च किया जाएगा व दूसरा स्थान सामाजिक व सामुदायिक सेवाओं पर।
  • गरीबी को 10% कम करने का लक्ष्य रखा गया है (प्रतिवर्ष 2%)

यह भी पढ़े –

UPSC STUDY MATERIALCLICK HERE
GENERAL SCIENCE NOTESCLICK HERE
NCERT E-BOOK/PDFCLICK HERE
YOJNA MONTHLY MAGAZINECLICK HERE

अंतिम शब्द :

 अगर आप हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ना चाहते हैं तो नीचे क्लिक हेयर पर क्लिक करके आप सीधे टेलीग्राम के माध्यम से हम से जुड़ सकते हैं  

panchvarshiya yojana in hindi | पंचवर्षीय योजना एसएससी जीडी भर्ती परीक्षा 14 फरवरी 2030 तक चलने वाली है एवं रोजाना हम आपके लिए प्रत्येक शिफ्ट से पूछे गए जीके के प्रश्नों को  लेकर आने वाले हैं इसलिए रोजाना इस वेबसाइट को विजिट करते रहें ताकि आप भी परीक्षा में पूछे जा रहे  प्रश्नों के लेवल को देखकर प्रैक्टिस सेट लगा सके