Share With Friends

Rajasthan Gk ( गुर्जर प्रतिहार वंश ) Notes in Hindi राजस्थान सामान्य ज्ञान एक ऐसा विषय है जो राजस्थान में होने वाली सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है जो कि अगर आप किसी भी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो उसमें Rajasthan samany gyan gurjar partihar vansh राजस्थान सामान्य ज्ञान यह प्रश्न आपको जरूर देखने को मिलेंगे इसलिए आप इसे अच्छे से जरूर तैयार कर ले और आज की इस पोस्ट में हम आपको राजस्थान में गुर्जर प्रतिहार वंश से संबंधित कुछ नोट्स उपलब्ध करवा रहे हैं जिसे आप आगामी परीक्षा की तैयारी के लिए पढ़ सकते हैं

 हम आपके लिए Rajasthan gk topic wise notes in hindi उपलब्ध करवाएंगे जो आपको राजस्थान में होने वाली सभी परीक्षाओं के लिए जरूर काम आएंगे

Rajasthan Gk ( गुर्जर प्रतिहार वंश ) Notes in Hindi

Daily Current AffairsClick Here
Weekly Current Affairs QuizClick Here
Monthly Current Affairs ( PDF )Click Here

गुर्जर प्रतिहार वंश की भीनमाल शाखा का संस्थापक कौन था ?

  •  नागभट्ट प्रथम 

 व्याख्या : 

  •  नागभट्ट प्रथम :  भीनमाल में गुर्जर वंश का संस्थापक
  •  हरीश चंद्र :  गुर्जर प्रतिहार वंश का संस्थापक व मूल पुरुष 
  •  वत्सराज :  भीनमाल शाखा के प्रतिहार वंश का वास्तविक संस्थापक 
  •  मिहिर भोज :  गुर्जर प्रतिहार वंश में  पितृहंता शासक

गुर्जर प्रतिहार वंश

  • रज्जिल ने मण्डोर को अपनी राजधानी बनाया था।
  • गुर्जर-प्रतिहार वंश में अन्तिम शासक यशपाल था ।
  • वत्सराज के शासनकाल में कन्नौज को लेकर त्रिपक्षीय संघर्ष की शुरूआत हुई थी तथा त्रिपक्षीय संघर्ष समाप्त नागभट्ट द्वितीय के समय हुआ था ।
  • नागभट्ट द्वितीय ने त्रिपक्षीय संघर्ष में कन्नौज पर अधिकार किया था तथा कन्नौज को राजधानी बनाई।
  • प्रतिहार वंश के शासक राज्यपाल व त्रिलोचन पाल के शासनकाल में महमूद गजनवी ने आक्रमण किया था।
  • महिपाल के शासनकाल से प्रतिहार वंश के पतन की शुरूआत मानी जाती है।
  • महिपाल के शासनकाल में अरब यात्री अलमसुदी आया था,
  • अलमसूदी ने गुर्जर-प्रतिहारों को अलगुर्जर व राजा को बोरा कहा था।
  • मिहिरभोज का शासनकाल गुर्जर प्रतिहार वंश का चरमोत्कर्ष काल माना जाता है ।
  • डॉ. गौरीशंकर हीराचंद ओझा ने प्रतिहारों को क्षत्रिय माना है।
  • कनिघंम ने गुर्जर प्रतिहारों को कुषाणवंशी कहा है ।
  • मुहणौत नैणसी के अनुसार गुर्जर प्रतिहारों की कुल 26 शाखाएँ थी । इनमें से दो प्रमुख थी – मण्डोर व भीनमाल ।

यह भी पढ़े –

UPSC STUDY MATERIALCLICK HERE
GENERAL SCIENCE NOTESCLICK HERE
NCERT E-BOOK/PDFCLICK HERE
YOJNA MONTHLY MAGAZINECLICK HERE

अंतिम शब्द :

 अगर आप हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ना चाहते हैं तो नीचे क्लिक हेयर पर क्लिक करके आप सीधे टेलीग्राम के माध्यम से हम से जुड़ सकते हैं  

उम्मीद करता हूं आज की इस Rajasthan Gk ( गुर्जर प्रतिहार वंश ) Notes in Hindi | For RAS, REET पोस्ट में शामिल प्रश्न आपको अच्छे लगे होंगे अगर आप ऐसे प्रश्नों के साथ  प्रैक्टिस जारी रखना चाहते हैं तो हमा