Indian geography ( भारत का भूगोल ) notes pdf : खनिज संसाधन

Share With Friends

अगर आप सिविल सर्विस परीक्षा या किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं जिसमें आपको Indian geography विषय अगर आप पढ़ रहे हैं तो उसमें आपको Indian geography ( भारत का भूगोल ) notes pdf : खनिज संसाधन ( mineral resources ) टॉपिक पढ़ने को मिलेगा आज हम उसी से संबंधित आपको शार्ट नोट्स करवा रहे हैं

 Bharat ke khanij sansadhan notes pdf in hindi के यह नोट्स आपको सभी परीक्षाओं में काम आएंगे यह नोट्स ऑफलाइन क्लास  में तैयार किए हुए नोट्स है ताकि आप इस टॉपिक को बहुत ही सरल एवं आसान तरीके से समझ सके

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Join whatsapp Group

Indian geography ( भारत का भूगोल ) notes pdf : खनिज संसाधन

खनिज पदार्थ प्राकृतिक रूप से निकलने वाला वह पदार्थ है, जिसकी अपनी भौतिक विशेषताएँ होती हैं और जिसकी प्रकृति को रासायनिक गुणों  द्वारा व्यक्त किया जा सकता है। मोटे तौर पर खनिजों को चार भागों में विभाजित किया जा सकता है-

(1)  ईंधन खनिज (Fuel Mineral)- कोयला, लिग्नाइट, कच्चा तेल एवं प्राकृतिक गैस
(2)  धात्विक खनिज (Metallic Minerals)- बॉक्साइट, लौह अयस्क, ताम्र अयस्क, मैंगनीज आदि।
(3)  अधात्विक खनिज (Non-Metallic Minerals) – बेराइट्स, एपेटाइट, एंडुलासाइट, कायनाइट आदि।
(4)  लघु खनिज (Minor Minerals) – मिट्‌टी तकी ईंट, कंकड़, भवन निर्माण, कायनाइट इत्यादि।

लौह अयस्क खनिज :– भारत में एशिया का विशालतम लौह – अयस्क संरक्षित हमारे यहाँ चार प्रकार के लौह-अयस्क पाए जाते है’-
1. मैग्नेटाइट
2. हेमेटाइट
3. लिमोनाइट
4. सिडेराइट

  • भारत में मुख्यत: हेमेटाइट व मैग्नेटाइट किस्म का लोहा पाया जाता है।
  • लौह अयस्क उत्पादन में भारत का स्थान विश्व में चौथा है।
  • विश्व में लौह अयस्क के सर्वाधिक भंडार आस्ट्रेलिया में है वर्ष 2017 में भारत का लौह – अयस्क के उत्पादन में चीन के बाद दूसरा स्थान है।

1. मैग्नेटाइट (Fe3O4)

  • यह सर्वोत्तम प्रकार का लौह अयस्क है यह काले रंग का होता है तथा इसमें धातु की मात्रा 72% तक होती है।

प्रमुख क्षेत्र :-
1. झारखंड – सिंह भूम, बाराजामदा
2. कर्नाटक – बेल्लारी – हॉस्पेट
3. छत्तीसगढ़ – बैलाडिला

2. हेमेटाइट (Fe2O3)

  • यह लाल एवं भूरे रंग का होता है। इसमें धातु का अंश 60 से 70 प्रतिशत के बीच होता है तथा भारत का अधिकतर (लगभग 58%) लौह अयस्क इसी श्रेणी का है।

 प्रमुख क्षेत्र :-
1. झारखंड – सिंह भूम
2. ओडिशा – मयूरभंज, क्योंझर, सुन्दरगढ़
  3. कर्नाटक, गोआ आदि जगहों में पाया जाता है।

3. लिमोनाइट –

  • यह प्राय: पीले रंग का होता हैं, इसमें धातु का अंश 10% से 40% होता है।
  • पश्चिम बंगाल के रानीगंज क्षेत्र में इस प्रकार के लौह अयस्क मिलते है।

4. सिडेराइट –

  • इस अयस्क में अशुद्धियाँ अधिक पायी जाती है। धातु का अंश 48% तक होता है। इसका रंग भूरा होता है। इसमें लोहा एवं कार्बन का मिश्रण होता है।
  • लिमोनाइट तथा सिडेराइट निम्न कोटि का लौह अयस्क है।
  • लौह अयस्क के संचित भंडार का क्रम (राज्यवार)

1. ओडिशा 2. झारखंड
3. छत्तीसगढ़  4. कर्नाटक

लौह अयस्क में छत्तीसगढ़ राज्य में बैलाडिला की लौह अयस्क खान तथा कर्नाटक में डोनीमलाई की खान प्रसिद्ध है।

Download complete notes PDF…..

Click & Download Pdf

अगर आपकी जिद है सरकारी नौकरी पाने की तो हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं टेलीग्राम चैनल को अभी जॉइन कर ले

Join Whatsapp GroupClick Here
Join TelegramClick Here

अंतिम शब्द

General Science Notes ( सामान्य विज्ञान )Click Here
Ncert Notes Click Here
Upsc Study MaterialClick Here

हम आपके लिए Indian geography ( भारत का भूगोल ) notes pdf : खनिज संसाधन ऐसे ही टॉपिक वाइज Notes उपलब्ध करवाते हैं ताकि किसी अध्याय को पढ़ने के साथ-साथ  आप हम से बनने वाले प्रश्नों के साथ प्रैक्टिस कर सके अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें

Leave a Comment